Geeta Jayanti 2021

Geeta Ke Updesh

जिनकी बुद्धि अनेक शाखाओं में विभाजित रहती है वो अपने लक्ष्य को कभी प्राप्त नहीं कर पाते।

Statuspik.com

भगवान समस्त आध्यात्मिक तथा भौतिकऔर उनसे ही प्रत्येक वस्तु उत्पन्न होती है।

इस संसार में सारे जीव भगवान के ही अंश हैं

काम, क्रोध तथा लोभ ये तीन नरक के द्वार हैं

जहां भगवन हैं वहां ऐश्वर्य, विजय और अलौकिक शक्ति हमेशा रहती है

भगवान सबके ह्रदय में विराजमान हैं और उन्ही से ही स्मृति तथा विस्मृति आती है।

अंत समय में जो जिस भाव का स्मरण करता है वो उसी भाव को प्राप्त होता है

प्रकृति निरंतर परिवर्तित होती रहती है